rahasya, the Unique Services/Solutions You Must Know

डरावनी भूत


रात के लगभग 10 बजे का समय था ।उस समय मैं और मेरा मित्र अपनी कार से गुड़गांव के एम जी रोड से होते हुये गाजियाबाद जा रहे थे। काली अंधेरी रात थी। हमारी गाड़ी अत्यंत सूनसान इलाके से गुजर रही थी। हम जिस जगह से आ रहे थे वहाँ से यहाँ इस जगह पहुँचने में लगभग चार घंटे का समय लग गया था। हमें मंजिल पर पहुँचने के लिए अभी दो घंटे का सफर बाकी था। चलते- चलते हमें भूख लग आयी थी। हम दोनों मित्रों के मन में बस एक ही चाह थी कि कहीं रास्ते में कोई ढाबा दिख जाये। ताकि खाना खा लिया जाये और कार के रेडिएटर में पानी भी डाल दें। क्योंकि गाड़ी का इंजन गर्म हो चला था।

तभी हमारी नजर सड़क के किनारे दूर जल रही लाइट पर पड़ी। हमने सोंचा कि हो न हो, कोई छोटा- मोटा ढाबा ही है़, जिसकी लाइट हमें नजर आ रही है़। जैसे – जैसे हम उस रौशनी के करीब पहुँचते जा रहे थे वैसे -वैसे वह ढाबा हमें साफ साफ नजर आने लगा था। हमने देखा कि उस ढाबे पर कोई बूढ़ी महिला सफेद रंग की साड़ी पहने रोटियां बेल रही थी। ढाबे पर गरम-गरम रोटियां सिंकती हुए देखकर हमारी भूख और भी बढ़ गई थी। सड़क से हमने अपनी कार उस ढाबे की तरफ मोड़ दी। लेकिन जैसे ही हम दोनों मित्र खाना खाने के लिए ढाबे पर, अपनी कार से नीचे उतरे तो हैरान रह गये। मैंने वहाँ जो कुछ देखा, देखता ही रह गया। मैंने देखा कि दूर से जो बूढ़ी महिला रोटी बेलती हुई नजर आ रही थी , वह अब एक जवान और खूबसूरत लड़की मे बदल गई थी। मैंने अपने मित्र को अपनी कोहनी मारते हुए धीरे से कहा, अरे अमिताभ भाई ,जब हम इस लेडी को दूर से देख रहे थे तो यह बूढ़ी नजर आ रही थी। लेकिन पास आते ही वह बूढ़ी महिला खूबसूरत लड़की के रूप में कैसे बदल गई? कहीं यह लड़की कोई भूतनी-वूतनी तो नहीं। मेरा मित्र मुझ पर नाराज होकर बोला कि क्या बे सिर पैर की बातें करते हो । लगता है तुम आजकल हॉरर मूवी बहुत देखने लगे हो। फिर मेरा मित्र समझाते हुये मुझसे बोला, हो सकता है यह हमारी आँखो का भ्रम हो और यह भी तो हो सकता है कि पहले इसकी माँ रोटी बेल रही हो और अब यहाँ उसकी यह बेटी रोटियाँ बेल रही है। मेरा मित्र फिर मुझसे बोला, अरे! रोटियां कोई भी बनाए, हमें तो केवल खाना खाने से मतलब है।

लेकिन मेरे मन में शंका के भूत ने जन्म ले लिया था। हम लोग ढाबे की बेंच पर बैठ गए। वह रोटियाँ बनाती हुई लड़की हमें देखकर मुस्कुरा रही थी। मेरा मित्र उस लड़की का खूबसूरत रूप देखकर पागल हुआ जा रहा था। मैंने सोचा जब तक वह लड़की खाना लेकर आये, तब तक अपने मित्र की कही हुई बात को एक बार चेक करता हूँ। यदि इसकी माँ ढाबे में होगी तो वह भी अंदर ही कहीं होगी। मैं हाथ धोने के बहाने से ढाबे के उस ओर आगे बढ़ गया जहाँ से ढाबे का पूरा भीतरी हिस्सा देखा जा सकता था। लेकिन जब ढाबे के अंदर की ओर दाएं- बाएं अपनी गर्दन घुमा कर देखा तो मुझे कहीं भी उसकी माँ नजर नहीं आई । अब मेरा माथा ठनका कि इस सुनसान इलाके में एक अकेली सुंदर लड़की ढाबा कैसे चला रही है !

मैंने वापस आकर अपने मित्र को बताया कि ढाबे के अंदर कोई नहीं है। उसकी बूढ़ी माँ भी नहीं है। मेरी यह बात सुनकर, मेरा दोस्त मुझे डांटने लगा कि तुम यहाँ इस ढाबे पर सी आई डी की तरह जाँच-पड़ताल करने आये हो या खाना- खाने। इससे पहले कि मैं उससे कुछ कहता तभी उसके किसी मित्र का फोन आ गया। वह पूछ रहा था कि तुम लोग कहाँ हो? मेरे मित्र ने बताया कि हम लोग गुडगांव के एम जी रोड पर हैं। जब उसने गुड़गांव के एम जी रोड का नाम सुना तो वह चौंका। उसने कहा कि इस रोड पर रात में गुजरना खतरे से खाली नहीं है। तुम अपनी गाड़ी से नीचे तो नहीं उतरे हो? इस पर मेरे मित्र ने कहा हम लोग एक ढाबे पर रुके हुए हैं । तब उसके मित्र ने फोन पर फिर पूछा कि यह ढाबा कहाँ है ? तब इस पर मेरे मित्र ने बताया हम दोनों मित्र एम जी रोड पर पुरानी ईटों की भठ्ठी के पास पीपल के पेड़ के नीचे एक ढाबा है, वहाँ खाना खाने के लिए रुके हैं। हमारे मित्र अमिताभ ने अपने मित्र को फोन पर अपनी लोकेशन बताने के बाद उसने जो कुछ बताया वह चौंकाने वाला था। उसने बताया कि उस एम जी रोड रोड पर कहीं भी कोई ढाबा नहीं है। वहां ईटों के भठ्ठी के पास एक कब्रिस्तान अवश्य है जहाँ भूत- भूतनियों के डरावने किस्से अक्सर सुने जाते हैं। मेरा मित्र यह सब सुनकर पसीने पसीने हो गया। उसे समझ में आ गया कि हम लोग इस समय किसी भूतिया स्थान पर हैं। उसने धीरे-धीरे सारी बात मुझे बतायी। मैंने अपने मित्र से कहा कि मैंने तुमसे पहले ही कहा था कि यहाँ कुछ दाल में काला है। लेकिन तुम तो उस भूतनी को आई लव यू बोलने को तैयार थे। हम दोनों मित्रों ने जान लिया कि अब आपस मे बहस करके समय बर्बाद करने से कोई फायदा नहीं है, कोई खतरा उत्पन्न हो उससे पहले यहाँ से भाग चलो। इससे पहले की वह खूबसूरत भूतनी अपना भुतहा खाना लेकर हम तक पहुँचती, हम उठ खड़े हुए।

अब तक रोटी सेंक रही उस भूतनी को भी इस बात का एहसास हो चुका था कि हमें उस ढाबे वाली लड़की के भूतनी होने की असलियत का पता चल चुका है। वह अब हम मित्रों की तरफ क्रोधित होकर देखने लगी। देखते ही देखते वह लड़की फिर से बुढ़िया बन गई। उसका rahsyamayi kahaniyan चेहरा बहुत डरावना था। उसका कोयले से अधिक काला रंग था। अंदर की ओर धसी हुई आंखें थीं। नाक के स्थान पर केवल एक बड़ा छेद था। बड़े-बड़े जानवरों की तरह कान और उसके बिखरे हुए लाल बाल थे। वह खौफनाक भूतनी चिल्लाती हुई हमारी ओर बढ़ी। जैसे कि वह हमें कच्चा चबा जायेगी। मेरे मित्र ने गाड़ी पर बैठते ही गाड़ी स्टार्ट कर ली थी। मैं भी लपक कर कार में सवार हो गया। हम कार स्टार्ट कर तेजी से वहाँ से भाग निकले। बिखरे हुये लाल बालों वाली वह डरावनी भूतनी हमारी कार के पीछे लगभग आधा किलोमीटर तक दौड़ती रही। फिर उसने हमारा पीछा छोड़ दिया। अब हम दोनों मित्रों ने चैन की साँस ली और फिर गुड़गांव की एम जी रोड पर रात को न आने की कसम खाई ।


Article Tags: rahasyamay, rahasyamaya, rahasya, bhut ki kahani, bhoot ki kahani, rahasyamayi kahani, rahsyamayi kahaniyan, rahasya story in hindi, रहस्यमयी कहानियां इन हिंदी, रहस्यमय.

Latest News on rahsyamayi kahaniyan

डरावनी भूत


रात के लगभग 10 बजे का समय था ।उस समय मैं और मेरा मित्र अपनी कार से गुड़गांव के एम जी रोड से होते हुये गाजियाबाद जा रहे थे। काली अंधेरी रात थी। हमारी गाड़ी अत्यंत सूनसान इलाके से गुजर रही थी। हम जिस जगह से आ रहे थे वहाँ से यहाँ इस जगह पहुँचने में लगभग चार घंटे का समय लग गया था। हमें मंजिल पर पहुँचने के लिए अभी दो घंटे का सफर बाकी था। चलते- चलते हमें भूख लग आयी थी। हम दोनों मित्रों के मन में बस एक ही चाह थी कि कहीं रास्ते में कोई ढाबा दिख जाये। ताकि खाना खा लिया जाये और कार के रेडिएटर में पानी भी डाल दें। क्योंकि गाड़ी का इंजन गर्म हो चला था।

तभी हमारी नजर सड़क के किनारे दूर जल रही लाइट पर पड़ी। हमने सोंचा कि हो न हो, कोई छोटा- मोटा ढाबा ही है़, जिसकी लाइट हमें नजर आ रही है़। जैसे – जैसे हम उस रौशनी के करीब पहुँचते जा रहे थे वैसे -वैसे वह ढाबा हमें साफ साफ नजर आने लगा था। हमने देखा कि उस ढाबे पर कोई बूढ़ी महिला सफेद रंग की साड़ी पहने रोटियां बेल रही थी। ढाबे पर गरम-गरम रोटियां सिंकती हुए देखकर हमारी भूख और भी बढ़ गई थी। सड़क से हमने अपनी कार उस ढाबे की तरफ मोड़ दी। लेकिन जैसे ही हम दोनों मित्र खाना खाने के लिए ढाबे पर, अपनी कार से नीचे उतरे तो हैरान रह गये। मैंने वहाँ जो कुछ देखा, देखता ही रह गया। मैंने देखा कि दूर से जो बूढ़ी महिला रोटी बेलती हुई नजर आ रही थी , वह अब एक जवान और खूबसूरत लड़की मे बदल गई थी। मैंने अपने मित्र को अपनी कोहनी मारते हुए धीरे से कहा, अरे अमिताभ भाई ,जब हम इस लेडी को दूर से देख रहे थे तो यह बूढ़ी नजर आ रही थी। लेकिन पास आते ही वह बूढ़ी महिला खूबसूरत लड़की के रूप में कैसे बदल गई? कहीं यह लड़की कोई भूतनी-वूतनी तो नहीं। मेरा मित्र मुझ पर नाराज होकर बोला कि क्या बे सिर पैर की बातें करते हो । लगता है तुम आजकल हॉरर मूवी बहुत देखने लगे हो। फिर मेरा मित्र समझाते हुये मुझसे बोला, हो सकता है यह हमारी आँखो का भ्रम हो और यह भी तो हो सकता है कि पहले इसकी माँ रोटी बेल रही हो और अब यहाँ उसकी यह बेटी रोटियाँ बेल रही है। मेरा मित्र फिर मुझसे बोला, अरे! रोटियां कोई भी बनाए, हमें तो केवल खाना खाने से मतलब है।

लेकिन मेरे मन में शंका के भूत ने जन्म ले लिया था। हम लोग ढाबे की बेंच पर बैठ गए। वह रोटियाँ बनाती हुई लड़की हमें देखकर मुस्कुरा रही थी। मेरा मित्र उस लड़की का खूबसूरत रूप देखकर पागल हुआ जा रहा था। मैंने सोचा जब तक वह लड़की खाना लेकर आये, तब तक अपने मित्र की कही हुई बात को एक बार चेक करता हूँ। यदि इसकी माँ ढाबे में होगी तो वह भी अंदर ही कहीं होगी। मैं हाथ धोने के बहाने से ढाबे के उस ओर आगे बढ़ गया जहाँ से ढाबे का पूरा भीतरी हिस्सा देखा जा सकता था। लेकिन जब ढाबे के अंदर की ओर दाएं- बाएं अपनी गर्दन घुमा कर देखा तो मुझे कहीं भी उसकी माँ नजर नहीं आई । अब मेरा माथा ठनका कि इस सुनसान इलाके में एक अकेली सुंदर लड़की ढाबा कैसे चला रही है !

मैंने वापस आकर अपने मित्र को बताया कि ढाबे के अंदर कोई नहीं है। उसकी बूढ़ी माँ भी नहीं rahasyamayi kahani है। मेरी यह बात सुनकर, मेरा दोस्त मुझे डांटने लगा कि तुम यहाँ इस ढाबे पर सी आई डी की तरह जाँच-पड़ताल करने आये हो या खाना- खाने। इससे पहले कि मैं उससे कुछ कहता तभी उसके किसी मित्र का फोन आ गया। वह पूछ रहा था कि तुम लोग कहाँ हो? मेरे मित्र ने बताया कि हम लोग गुडगांव के एम जी रोड पर हैं। जब उसने गुड़गांव के एम जी रोड का नाम सुना तो वह चौंका। उसने कहा कि इस रोड पर रात में गुजरना खतरे से खाली नहीं है। तुम अपनी गाड़ी से नीचे तो नहीं उतरे हो? इस पर मेरे मित्र ने कहा हम लोग एक ढाबे पर रुके हुए हैं । तब उसके मित्र ने फोन पर फिर पूछा कि यह ढाबा कहाँ है ? तब इस पर मेरे मित्र ने बताया हम दोनों मित्र एम जी रोड पर पुरानी ईटों की भठ्ठी के पास पीपल के पेड़ के नीचे एक ढाबा है, वहाँ खाना खाने के लिए रुके हैं। हमारे मित्र अमिताभ ने अपने मित्र को फोन पर अपनी लोकेशन बताने के बाद उसने जो कुछ बताया वह चौंकाने वाला था। उसने बताया कि उस एम जी रोड रोड पर कहीं भी कोई ढाबा नहीं है। वहां ईटों के भठ्ठी के पास एक कब्रिस्तान अवश्य है जहाँ भूत- भूतनियों के डरावने किस्से अक्सर सुने जाते हैं। मेरा मित्र यह सब सुनकर पसीने पसीने हो गया। उसे समझ में आ गया कि हम लोग इस समय किसी भूतिया स्थान पर हैं। उसने धीरे-धीरे सारी बात मुझे बतायी। मैंने अपने मित्र से कहा कि मैंने तुमसे पहले ही कहा था कि यहाँ कुछ दाल में काला है। लेकिन तुम तो उस भूतनी को आई लव यू बोलने को तैयार थे। हम दोनों मित्रों ने जान लिया कि अब आपस मे बहस करके समय बर्बाद करने से कोई फायदा नहीं है, कोई खतरा उत्पन्न हो उससे पहले यहाँ से भाग चलो। इससे पहले की वह खूबसूरत भूतनी अपना भुतहा खाना लेकर हम तक पहुँचती, हम उठ खड़े हुए।

अब तक रोटी सेंक रही उस भूतनी को भी इस बात का एहसास हो चुका था कि हमें उस ढाबे वाली लड़की के भूतनी होने की असलियत का पता चल चुका है। वह अब हम मित्रों की तरफ क्रोधित होकर देखने लगी। देखते ही देखते वह लड़की फिर से बुढ़िया बन गई। उसका चेहरा बहुत डरावना था। उसका कोयले से अधिक काला रंग था। अंदर की ओर धसी हुई आंखें थीं। नाक के स्थान पर केवल एक बड़ा छेद था। बड़े-बड़े जानवरों की तरह कान और उसके बिखरे हुए लाल बाल थे। वह खौफनाक भूतनी चिल्लाती हुई हमारी ओर बढ़ी। जैसे कि वह हमें कच्चा चबा जायेगी। मेरे मित्र ने गाड़ी पर बैठते ही गाड़ी स्टार्ट कर ली थी। मैं भी लपक कर कार में सवार हो गया। हम कार स्टार्ट कर तेजी से वहाँ से भाग निकले। बिखरे हुये लाल बालों वाली वह डरावनी भूतनी हमारी कार के पीछे लगभग आधा किलोमीटर तक दौड़ती रही। फिर उसने हमारा पीछा छोड़ दिया। अब हम दोनों मित्रों ने चैन की साँस ली और फिर गुड़गांव की एम जी रोड पर रात को न आने की कसम खाई ।


Article Tags: rahasyamay, rahasyamaya, rahasya, bhut ki kahani, bhoot ki kahani, rahasyamayi kahani, rahsyamayi kahaniyan, rahasya story in hindi, रहस्यमयी कहानियां इन हिंदी, रहस्यमय.

The Blog on rahasya

डरावनी भूत


रात के लगभग 10 बजे का समय था ।उस समय मैं और मेरा मित्र अपनी कार से गुड़गांव के एम जी रोड से होते हुये गाजियाबाद जा रहे थे। काली अंधेरी रात थी। हमारी गाड़ी अत्यंत सूनसान इलाके से गुजर रही थी। हम जिस जगह से आ रहे थे वहाँ से यहाँ इस जगह पहुँचने में लगभग चार घंटे का समय लग गया था। हमें मंजिल पर पहुँचने के लिए अभी दो घंटे का सफर बाकी था। चलते- चलते हमें भूख लग आयी थी। हम दोनों मित्रों के मन में बस एक ही चाह थी कि कहीं रास्ते में कोई ढाबा दिख जाये। ताकि खाना खा लिया जाये और कार के रेडिएटर में पानी भी डाल दें। क्योंकि गाड़ी का इंजन गर्म हो चला था।

तभी हमारी नजर सड़क के किनारे दूर जल रही लाइट पर पड़ी। हमने सोंचा कि हो न हो, कोई छोटा- मोटा ढाबा ही है़, जिसकी लाइट हमें नजर आ रही है़। जैसे – जैसे हम उस रौशनी के करीब पहुँचते जा रहे थे वैसे -वैसे वह ढाबा हमें साफ साफ नजर आने लगा था। हमने देखा कि उस ढाबे पर कोई बूढ़ी महिला सफेद रंग की साड़ी पहने रोटियां बेल रही थी। ढाबे पर गरम-गरम रोटियां सिंकती हुए देखकर हमारी भूख और भी बढ़ गई थी। सड़क से हमने अपनी कार उस ढाबे की तरफ मोड़ दी। लेकिन जैसे ही हम दोनों मित्र खाना खाने के लिए ढाबे पर, अपनी कार से नीचे उतरे तो हैरान रह गये। मैंने वहाँ जो कुछ देखा, देखता ही रह गया। मैंने देखा कि दूर से जो बूढ़ी महिला रोटी बेलती हुई नजर आ रही थी , वह अब एक जवान और खूबसूरत लड़की मे बदल गई थी। मैंने अपने मित्र को अपनी कोहनी मारते हुए धीरे से कहा, अरे अमिताभ भाई ,जब हम इस लेडी को दूर से देख रहे थे तो यह बूढ़ी नजर आ रही थी। लेकिन पास आते ही वह बूढ़ी महिला खूबसूरत लड़की के रूप में कैसे बदल गई? कहीं यह लड़की कोई भूतनी-वूतनी तो नहीं। मेरा मित्र मुझ पर नाराज होकर बोला कि क्या बे सिर पैर की बातें करते हो । लगता है तुम आजकल हॉरर मूवी बहुत देखने लगे हो। फिर मेरा मित्र समझाते हुये मुझसे बोला, हो सकता है यह हमारी आँखो का भ्रम हो और यह भी तो हो सकता है कि पहले इसकी माँ रोटी बेल रही हो और अब यहाँ उसकी यह बेटी रोटियाँ बेल रही है। मेरा मित्र फिर मुझसे बोला, अरे! रोटियां कोई भी बनाए, हमें तो केवल खाना खाने से मतलब है।

लेकिन मेरे मन में शंका के भूत ने जन्म ले लिया था। हम लोग ढाबे की बेंच पर बैठ गए। वह रोटियाँ बनाती हुई लड़की हमें देखकर मुस्कुरा रही थी। मेरा मित्र उस लड़की का खूबसूरत रूप देखकर पागल हुआ जा rahasyamayi kahani रहा था। मैंने सोचा जब तक वह लड़की खाना लेकर आये, तब तक अपने मित्र की कही हुई बात को एक बार चेक करता हूँ। यदि इसकी माँ ढाबे में होगी तो वह भी अंदर ही कहीं होगी। मैं हाथ धोने के बहाने से ढाबे के उस ओर आगे बढ़ गया जहाँ से ढाबे का पूरा भीतरी हिस्सा देखा जा सकता था। लेकिन जब ढाबे के अंदर की ओर दाएं- बाएं अपनी गर्दन घुमा कर देखा तो मुझे कहीं भी उसकी माँ नजर नहीं आई । अब मेरा माथा ठनका कि इस सुनसान इलाके में एक अकेली सुंदर लड़की ढाबा कैसे चला रही है !

मैंने वापस आकर अपने मित्र को बताया कि ढाबे के अंदर कोई नहीं है। उसकी बूढ़ी माँ भी नहीं है। मेरी यह बात सुनकर, मेरा दोस्त मुझे डांटने लगा कि तुम यहाँ इस ढाबे पर सी आई डी की तरह जाँच-पड़ताल करने आये हो या खाना- खाने। इससे पहले कि मैं उससे कुछ कहता तभी उसके किसी मित्र का फोन आ गया। वह पूछ रहा था कि तुम लोग कहाँ हो? मेरे मित्र ने बताया कि हम लोग गुडगांव के एम जी रोड पर हैं। जब उसने गुड़गांव के एम जी रोड का नाम सुना तो वह चौंका। उसने कहा कि इस रोड पर रात में गुजरना खतरे से खाली नहीं है। तुम अपनी गाड़ी से नीचे तो नहीं उतरे हो? इस पर मेरे मित्र ने कहा हम लोग एक ढाबे पर रुके हुए हैं । तब उसके मित्र ने फोन पर फिर पूछा कि यह ढाबा कहाँ है ? तब इस पर मेरे मित्र ने बताया हम दोनों मित्र एम जी रोड पर पुरानी ईटों की भठ्ठी के पास पीपल के पेड़ के नीचे एक ढाबा है, वहाँ खाना खाने के लिए रुके हैं। हमारे मित्र अमिताभ ने अपने मित्र को फोन पर अपनी लोकेशन बताने के बाद उसने जो कुछ बताया वह चौंकाने वाला था। उसने बताया कि उस एम जी रोड रोड पर कहीं भी कोई ढाबा नहीं है। वहां ईटों के भठ्ठी के पास एक कब्रिस्तान अवश्य है जहाँ भूत- भूतनियों के डरावने किस्से अक्सर सुने जाते हैं। मेरा मित्र यह सब सुनकर पसीने पसीने हो गया। उसे समझ में आ गया कि हम लोग इस समय किसी भूतिया स्थान पर हैं। उसने धीरे-धीरे सारी बात मुझे बतायी। मैंने अपने मित्र से कहा कि मैंने तुमसे पहले ही कहा था कि यहाँ कुछ दाल में काला है। लेकिन तुम तो उस भूतनी को आई लव यू बोलने को तैयार थे। हम दोनों मित्रों ने जान लिया कि अब आपस मे बहस करके समय बर्बाद करने से कोई फायदा नहीं है, कोई खतरा उत्पन्न हो उससे पहले यहाँ से भाग चलो। इससे पहले की वह खूबसूरत भूतनी अपना भुतहा खाना लेकर हम तक पहुँचती, हम उठ खड़े हुए।

अब तक रोटी सेंक रही उस भूतनी को भी इस बात का एहसास हो चुका था कि हमें उस ढाबे वाली लड़की के भूतनी होने की असलियत का पता चल चुका है। वह अब हम मित्रों की तरफ क्रोधित होकर देखने लगी। देखते ही देखते वह लड़की फिर से बुढ़िया बन गई। उसका चेहरा बहुत डरावना था। उसका कोयले से अधिक काला रंग था। अंदर की ओर धसी हुई आंखें थीं। नाक के स्थान पर केवल एक बड़ा छेद था। बड़े-बड़े जानवरों की तरह कान और उसके बिखरे हुए लाल बाल थे। वह खौफनाक भूतनी चिल्लाती हुई हमारी ओर बढ़ी। जैसे कि वह हमें कच्चा चबा जायेगी। मेरे मित्र ने गाड़ी पर बैठते ही गाड़ी स्टार्ट कर ली थी। मैं भी लपक कर कार में सवार हो गया। हम कार स्टार्ट कर तेजी से वहाँ से भाग निकले। बिखरे हुये लाल बालों वाली वह डरावनी भूतनी हमारी कार के पीछे लगभग आधा किलोमीटर तक दौड़ती रही। फिर उसने हमारा पीछा छोड़ दिया। अब हम दोनों मित्रों ने चैन की साँस ली और फिर गुड़गांव की एम जी रोड पर रात को न आने की कसम खाई ।


Article Tags: rahasyamay, rahasyamaya, rahasya, bhut ki kahani, bhoot ki kahani, rahasyamayi kahani, rahsyamayi kahaniyan, rahasya story in hindi, रहस्यमयी कहानियां इन हिंदी, रहस्यमय.

The Benefits of Knowing bhut ki kahani

डरावनी भूत


रात के लगभग 10 बजे का समय था ।उस समय मैं और मेरा मित्र अपनी कार से गुड़गांव के एम जी रोड से होते हुये गाजियाबाद जा रहे थे। काली अंधेरी रात थी। हमारी गाड़ी अत्यंत सूनसान इलाके से गुजर रही थी। हम जिस जगह से आ रहे थे वहाँ से यहाँ इस जगह पहुँचने में लगभग चार घंटे का समय लग गया था। हमें मंजिल पर पहुँचने के लिए अभी दो घंटे का सफर बाकी था। चलते- चलते हमें भूख लग आयी थी। हम दोनों मित्रों के मन में बस एक ही चाह थी कि कहीं रास्ते में कोई ढाबा दिख जाये। ताकि खाना खा लिया जाये और कार के रेडिएटर में पानी भी डाल दें। क्योंकि गाड़ी का इंजन गर्म हो चला था।

तभी हमारी नजर सड़क के किनारे दूर जल रही लाइट पर पड़ी। हमने सोंचा कि हो न हो, कोई छोटा- मोटा ढाबा ही है़, जिसकी लाइट हमें नजर आ रही है़। जैसे – जैसे हम उस रौशनी के करीब पहुँचते जा रहे थे वैसे -वैसे वह ढाबा हमें साफ साफ नजर आने लगा था। हमने देखा कि उस ढाबे पर कोई बूढ़ी महिला सफेद रंग की साड़ी पहने रोटियां बेल रही थी। ढाबे पर गरम-गरम रोटियां सिंकती हुए देखकर हमारी भूख और भी बढ़ गई थी। सड़क से हमने अपनी कार उस ढाबे की तरफ मोड़ दी। लेकिन जैसे ही हम दोनों मित्र खाना खाने के लिए ढाबे पर, अपनी कार से नीचे उतरे तो हैरान रह गये। मैंने वहाँ जो कुछ देखा, देखता ही रह गया। मैंने देखा कि दूर से जो बूढ़ी महिला रोटी बेलती हुई नजर आ रही थी , वह अब एक जवान और खूबसूरत लड़की मे बदल गई थी। मैंने अपने मित्र को अपनी कोहनी मारते हुए धीरे से कहा, अरे अमिताभ भाई ,जब हम इस लेडी को दूर से देख रहे थे तो यह बूढ़ी नजर आ रही थी। लेकिन पास आते ही वह बूढ़ी महिला खूबसूरत लड़की के रूप में कैसे बदल गई? कहीं यह लड़की कोई भूतनी-वूतनी तो नहीं। मेरा मित्र मुझ पर नाराज होकर बोला कि क्या बे सिर पैर की बातें करते हो । लगता है तुम आजकल हॉरर मूवी बहुत देखने लगे हो। फिर मेरा मित्र समझाते हुये मुझसे बोला, हो सकता है यह हमारी आँखो का भ्रम हो और यह भी तो हो सकता है कि पहले इसकी माँ रोटी बेल रही हो और अब यहाँ उसकी यह बेटी रोटियाँ बेल रही है। मेरा मित्र फिर मुझसे बोला, अरे! रोटियां कोई भी बनाए, हमें तो केवल खाना खाने से मतलब है।

लेकिन मेरे मन में शंका के भूत ने जन्म ले लिया था। हम लोग ढाबे की बेंच पर बैठ गए। वह रोटियाँ बनाती हुई लड़की हमें देखकर मुस्कुरा रही थी। मेरा मित्र उस लड़की का खूबसूरत रूप देखकर पागल हुआ जा रहा था। मैंने सोचा जब तक वह लड़की खाना लेकर आये, तब तक अपने मित्र की कही हुई बात को एक बार चेक करता हूँ। यदि इसकी माँ ढाबे में होगी तो वह भी अंदर ही कहीं होगी। मैं हाथ धोने के बहाने से ढाबे के उस ओर आगे बढ़ गया जहाँ से ढाबे का पूरा भीतरी हिस्सा देखा जा सकता था। लेकिन जब ढाबे के अंदर की ओर दाएं- बाएं अपनी गर्दन घुमा कर देखा तो मुझे कहीं भी उसकी माँ नजर नहीं आई । अब मेरा माथा ठनका कि इस सुनसान इलाके में एक अकेली सुंदर लड़की ढाबा कैसे चला रही bhoot ki kahani है !

मैंने वापस आकर अपने मित्र को बताया कि ढाबे के अंदर कोई नहीं है। उसकी बूढ़ी माँ भी नहीं है। मेरी यह बात सुनकर, मेरा दोस्त मुझे डांटने लगा कि तुम यहाँ इस ढाबे पर सी आई डी की तरह जाँच-पड़ताल करने आये हो या खाना- खाने। इससे पहले कि मैं उससे कुछ कहता तभी उसके किसी मित्र का फोन आ गया। वह पूछ रहा था कि तुम लोग कहाँ हो? मेरे मित्र ने बताया कि हम लोग गुडगांव के एम जी रोड पर हैं। जब उसने गुड़गांव के एम जी रोड का नाम सुना तो वह चौंका। उसने कहा कि इस रोड पर रात में गुजरना खतरे से खाली नहीं है। तुम अपनी गाड़ी से नीचे तो नहीं उतरे हो? इस पर मेरे मित्र ने कहा हम लोग एक ढाबे पर रुके हुए हैं । तब उसके मित्र ने फोन पर फिर पूछा कि यह ढाबा कहाँ है ? तब इस पर मेरे मित्र ने बताया हम दोनों मित्र एम जी रोड पर पुरानी ईटों की भठ्ठी के पास पीपल के पेड़ के नीचे एक ढाबा है, वहाँ खाना खाने के लिए रुके हैं। हमारे मित्र अमिताभ ने अपने मित्र को फोन पर अपनी लोकेशन बताने के बाद उसने जो कुछ बताया वह चौंकाने वाला था। उसने बताया कि उस एम जी रोड रोड पर कहीं भी कोई ढाबा नहीं है। वहां ईटों के भठ्ठी के पास एक कब्रिस्तान अवश्य है जहाँ भूत- भूतनियों के डरावने किस्से अक्सर सुने जाते हैं। मेरा मित्र यह सब सुनकर पसीने पसीने हो गया। उसे समझ में आ गया कि हम लोग इस समय किसी भूतिया स्थान पर हैं। उसने धीरे-धीरे सारी बात मुझे बतायी। मैंने अपने मित्र से कहा कि मैंने तुमसे पहले ही कहा था कि यहाँ कुछ दाल में काला है। लेकिन तुम तो उस भूतनी को आई लव यू बोलने को तैयार थे। हम दोनों मित्रों ने जान लिया कि अब आपस मे बहस करके समय बर्बाद करने से कोई फायदा नहीं है, कोई खतरा उत्पन्न हो उससे पहले यहाँ से भाग चलो। इससे पहले की वह खूबसूरत भूतनी अपना भुतहा खाना लेकर हम तक पहुँचती, हम उठ खड़े हुए।

अब तक रोटी सेंक रही उस भूतनी को भी इस बात का एहसास हो चुका था कि हमें उस ढाबे वाली लड़की के भूतनी होने की असलियत का पता चल चुका है। वह अब हम मित्रों की तरफ क्रोधित होकर देखने लगी। देखते ही देखते वह लड़की फिर से बुढ़िया बन गई। उसका चेहरा बहुत डरावना था। उसका कोयले से अधिक काला रंग था। अंदर की ओर धसी हुई आंखें थीं। नाक के स्थान पर केवल एक बड़ा छेद था। बड़े-बड़े जानवरों की तरह कान और उसके बिखरे हुए लाल बाल थे। वह खौफनाक भूतनी चिल्लाती हुई हमारी ओर बढ़ी। जैसे कि वह हमें कच्चा चबा जायेगी। मेरे मित्र ने गाड़ी पर बैठते ही गाड़ी स्टार्ट कर ली थी। मैं भी लपक कर कार में सवार हो गया। हम कार स्टार्ट कर तेजी से वहाँ से भाग निकले। बिखरे हुये लाल बालों वाली वह डरावनी भूतनी हमारी कार के पीछे लगभग आधा किलोमीटर तक दौड़ती रही। फिर उसने हमारा पीछा छोड़ दिया। अब हम दोनों मित्रों ने चैन की साँस ली और फिर गुड़गांव की एम जी रोड पर रात को न आने की कसम खाई ।


Article Tags: rahasyamay, rahasyamaya, rahasya, bhut ki kahani, bhoot ki kahani, rahasyamayi kahani, rahsyamayi kahaniyan, rahasya story in hindi, रहस्यमयी कहानियां इन हिंदी, रहस्यमय.

Trending Update Blog on big daddy game

Big Daddy Game: Checking Out the Ultimate Gaming Experience


Intro

In the dynamic world of gaming, discovering a platform that offers a substantial range of interesting and immersive games can be an obstacle. Big Daddy Game stands out as a premier destination for gaming lovers, using a wide range of games that deal with different tastes and preferences. This article explores what makes Big Daddy Game a leading choice for gamers, highlighting its features, game choice, and total user experience.

A Diverse Selection of Games

One of the standout features of Big Daddy Game is its varied game library. Whether you are a fan of action-packed experiences, strategic role-playing games, or classic arcade enjoyable, Big Daddy Game has something for everybody. The platform regularly updates its collection, ensuring that players always have access to the current and most popular games. This variety not only keeps the gaming experience fresh but also enables players to check out new categories and expand their gaming horizons.

User-Friendly Interface

Navigating through a gaming platform ought to be a smooth experience, and Big Daddy Game masters this regard. The website boasts an easy to use user interface that makes it easy for players to find their favorite games. The user-friendly design and simple navigation guarantee that even newbies can rapidly get familiarized with the platform. Classifications are clearly labeled, and games are organized in a manner that makes browsing effortless. This attention to user experience sets Big Daddy Game apart from numerous other gaming sites.

High-Quality Graphics and Sound

For gamers, the visual and auditory experience is critical. Big Daddy Game understands this and offers games with top quality graphics and sound impacts. The immersive environments and sensible soundscapes improve the general gaming experience, making players seem like they belong to the action. Whether it's the comprehensive graphics of a fantasy world or the pulse-pounding soundtrack of a racing game, Big Daddy Game guarantees that players are completely engaged.

Engaging Multiplayer Options

Gaming is often more enjoyable when shared with others, and Big Daddy Game offers robust multiplayer options. Players can coordinate with friends or complete versus others from around the world. The platform supports a range of multiplayer modes, from cooperative gameplay to competitive competitions. This social element adds an extra layer of excitement and keeps players returning for more.

Routine Updates and New Releases

Staying current with the current patterns in gaming is essential, and Big Daddy Game is committed to providing routine updates and new releases. The platform regularly adds big daddy game new games to its library, ensuring that there is always something new to check out. Furthermore, existing games receive updates to fix bugs, include new content, and enhance performance. This dedication to keeping the platform fresh and amazing is among the reasons Big Daddy Game has a loyal and growing user base.

Security and Fair Play

In the world of online gaming, security is a significant issue. Big Daddy Game takes the security of its players seriously, implementing robust measures to secure personal information and ensure fair play. The platform utilizes advanced encryption technology to secure user data and utilizes rigorous anti-cheating procedures to maintain a level playing field. Players can enjoy their preferred games with the assurance that their information is safe and the gaming environment is reasonable.

Customer Support and Community Engagement

A strong community and outstanding customer support are vital for any effective gaming platform. Big Daddy Game masters both areas. The platform offers responsive customer assistance to deal with any issues or concerns players may have. In Addition, Big Daddy Game promotes a lively community where players can connect, share tips, and participate in conversations. This sense of community enhances the total gaming experience and makes players feel valued and supported.

Conclusion

Big Daddy Game is a premier destination for gamers looking for a diverse and immersive gaming experience. With its substantial game library, user-friendly user interface, high-quality graphics and noise, engaging multiplayer options, routine updates, and strong security measures, Big Daddy Game has developed itself as a top option for gaming enthusiasts. Whether you are a casual gamer or a hardcore lover, Big Daddy Game provides something for everybody. Explore the platform today and find a world of exciting gaming possibilities.


Article Tags: big daddy game.

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15